हरियाणा के 11 जिले बाढ़ग्रस्त, पंजाब की गर्भवती महिला का रेस्क्यू

313
SHARE

सिरसा ।

हरियाणा में बाढ़ से चौथे दिन भी राहत नहीं मिल पाई। राज्य के अभी भी 11 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। इनमें अंबाला, फतेहाबाद, फरीदाबाद, पंचकूला, झज्जर, कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल, पानीपत, सोनीपत और यमुनानगर शामिल हैं। इन जिलों में 854 गांवों में अभी पानी खड़ा हुआ है।

आज भी 3 जिलों पंचकूला, अंबाला और यमुनानगर में चंडीगढ़ मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। वहीं सिरसा में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। इसकी वजह है कि घग्गर में 27500 क्यूसेक पानी पहुंच चुका है। 12 घंटे में नदी में 7 हजार क्यूसेक पानी बढ़ चुका है।

अंबाला के 750 में से 430 स्कूलों व कुरूक्षेत्र में 203 सरकारी स्कूलों में पानी भरा है। इस कारण रविवार तक स्कूल बंद कर दिए गए हैं। यमुनानगर के स्कूलों में भी गुरुवार को छुट्टी रही। करनाल, पानीपत और कैथल के बाढ़ प्रभावित स्कूलों को फिलहाल बंद रखा गया है। अंबाला में जलभराव की वजह से पशुओं को छत पर बांधा गया है।

राज्य में अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है, 2 लोग घायल हो गए हैं। 4 लोग लापता हैं। 126 मकान पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं और 106 मकानों को नुकसान पहुंचा है। सरकार की ओर से अंबाला, यमुनानगर, करनाल और पानीपत में सेना बुलाई गई है। प्रभावित जगहों से अब तक 3,674 लोगों को सेना व एनडीआरएफ की टीमों ने सुरक्षित निकाला है।

सबसे ज्यादा खराब हालात जीटी बेल्ट के हैं। इस बेल्ट के छह जिलों अंबाला, यमुनानगर, करनाल, कैथल, कुरुक्षेत्र व पानीपत के करीब 585 गांव बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं। इन गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क कट गया है। कैथल, कुरुक्षेत्र की स्थिति तो पहले से और खराब है। पंजाब के खनौरी में पुल टूटने से कैथल का संगरूर से भी संपर्क टूट गया। अंबाला पटियाला से पहले ही कट चुका है। घग्गर नदी का पानी चीका शहर में भर गया।

गर्भवती महिला का रेस्क्यू

एक परिवार में गर्भवती महिला होने के चलते पंजाब प्रशासन से मदद की गुहार लगाई गई, लेकिन समय रहते मदद नहीं मिल पाई। बाद में परिवार द्वारा फतेहाबाद प्रशासन से मदद मांगी गई। बाढ़ बचाव कार्य के लिए जाखल में ही मौजूद डीसी मनदीप कौर को जब इस बात की जानकारी मिली तो एनडीआरएफ की टीम भेजकर महिला को सुरक्षित हांडा गांव से बाहर निकलवाया।

महिला को कुछ ही दूरी पर स्थित हरियाणा के गांव पूर्ण माजरा लाया गया। पूर्ण माजरा के आसपास भी काफी पानी जमा है, लेकिन राहत की बात यह है कि आबादी अभी सुरक्षित है। ऐसे में अब पंजाब की उक्त गर्भवती महिला को पूर्ण माजरा में ही शिफ्ट कर दिया गया है और जरूरी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal