हिसार में बड़ी संख्या में जुटे किसान, प्रशासन और आंदोलनकारी आमने- सामने

209
SHARE

आयुक्त आवास पर प्रदर्शन को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी, बलबीर सिंह राजेवाल सहित अनेक किसान नेता पहुंचे क्रांतिमान पार्क पहुचे हैं। विभिन्न क्षेत्रों से अब भी किसानों का आना लगा हुआ है। वहीं मंडलायुक्त द्वारा ने सोमवार को फिर बातचीत का प्रस्ताव भेजा है।

24 May 2021

हिसार : सीएम आगमन पर गत 16 मई को पुलिस तथा आंदोलनकारियों के बीच हुई हिंसक झड़प तथा आंदोलनकारियों पर मुकदमा दर्ज होने के बाद आंदोलनकारी तथा प्रशासन आमने सामने हैं। वहीं लघु सचिवालय मैं भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है। प्रशासन के द्वारा रैपिड एक्शन फोर्स की भी तैनाती की गई है। सभी किसान क्रांतिमान पार्क के बाद हिसार कमिश्नर के कार्यलय का घेराव करने जाएंगे। आयुक्त आवास पर प्रदर्शन को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी, बलबीर सिंह राजेवाल सहित अनेक किसान नेता पहुंचे क्रांतिमान पार्क पहुचे हैं। विभिन्न क्षेत्रों से अब भी किसानों का आना लगा हुआ है। वहीं मंडलायुक्त द्वारा ने सोमवार को फिर बातचीत का प्रस्ताव भेजा है। वहीं लघु सचिवालय मैं भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है। प्रशासन के द्वारा रैपिड एक्शन फोर्स की भी तैनाती की गई है। सभी किसान क्रांतिमान पार्क के बाद हिसार कमिश्नर के कार्यलय का घेराव करने जाएंगे।

वहीं किसान नेताओं ने पहले ही ऐलान किया है कि वह सोमवार को आयुक्त कार्यालय का घेराव करेंगे। आयुक्त कार्यालय के बाहर सैकड़ों आंदोलकारियों के जुटने की संभावना को देखते हुए प्रशासन ने आरपीएफ बुला ली है। किसान सभा ने प्रदर्शन में जिले के सभी गांवों से पहुंचने का दावा किया है। एक किसान की हार्ट अटैक से मौत वहीं क्रांतिमान पार्क में एक किसान की हार्ट अटैक से मौत का समाचार है। किसान रामचंद्र खरब हिसार जिले के उगालन गांव के रहने वाले थे वे किसानों के प्रदर्शन में भाग लेने के लिए आए थे। कोरोना महामारी से लड़ाई का समय बता दे कि रविवार को जिला प्रशासन द्वारा किसानों से अपील करते हुए कहा गया था कि यह समय मिलजुल कर कोरोना महामारी से लड़ाई का समय है, इसलिए महामारी के जड़ से खात्मे के लिए किसान संगठन बातचीत के लिए आगे आएं। बड़े से बड़े मुद्दों का हल बातचीत से ही संभव है। प्रशासन की ओर से पहले भी किसानों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत की गई है और अभी भी प्रशासन के दरवाजे बातचीत के लिए खुले हैं।