सभी को मिलेगा कोरोना वैक्सीन, दिसंबर तक पचास करोड़ से अधिक हो जाएगा उत्पादन : डॉ अरविंद शर्मा

72
SHARE

सांसद डाक्टर अरविंद शर्मा ने दी जानकारी, रशिया की स्पूतनिक -V को मिली मंजूरी व अन्य 12 दवा निर्माता कंपनियां बनाएंगी वैक्सीन

तेजी से हो रहा है वैक्सीन का उत्पादन, जून माह में दस करोड़ व दिंसबर तक होगा पचास करोड़ : डॉ अरविंद शर्मा

बच्चों के लिए भी हो चुका है वैक्सीन का परीक्षण शुरु, टीकाकरण की तैयारियां युद्व स्तर पर

विपक्ष पर भी साधा निशाना, दोहरी राजनीति कर रहा है विपक्ष, पहले वैक्सीन को बताया था भाजपा की वैक्सीन, अब वैक्सीन के लिए ब्यान-बाजी

ऑक्सीजन का उत्पादन भी दुगने के करीब, रोजना ऑक्सीजन का हो रहा है देश में 9446 मिट्रिक टन उत्पादन

रोहतक, 23 मई। कोरोना महामारी को रोकने के लिए अहम भूमिका निभा रही कोरोना वैक्सीन की अब कोई कमी नहीं रहेगी। केंद्र सरकार ने वैक्सीन के उत्पादान के लिए 12 दवा निर्माता कंपनियों को मंजूरी दी है। साथ ही रशिया की वैक्सीन स्पूतनिक-V को भी भारत में इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है। इस बारे में जानकारी देते हुए सांसद डाक्टर अरविंद शर्मा ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए अप्रैल 2020 में दवा के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री की देखरेख में टास्क फोर्स गठित की और थोड़े ही समय में देश अपनी दो स्वदेशी वैक्सीन उपलब्ध करवाई और नौ महीन के अल्प समय में वैक्सीन का टीकाकरण शुरु कर दिया गया, यह केंद्र सरकार की बड़ी उपलब्धि है। सांसद ने वैक्सीन को लेकर विपक्ष पार्टियों पर निशाना साधा और कहा कि पहले तो विपक्ष के नेता वैक्सीन को भाजपा की वैक्सीन बता रहे थे और आज वही नेता वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर ब्यान-बाजी करके भ्रम की स्थिति फैला रहे हैं। देश की जनता पूरी तरह से समझ चुकी है कि कोरोना महामारी में भी विपक्ष दोहरी राजनीति कर रहा है।
रविवार को वीडियो कॉफ्रेसिंग के जरिए इस बारे में पत्रकारों से बातचीत करते हुए सांसद अरविंद शर्मा ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए एक विशेष प्लान तैयार किया है, जिसके तहत वैक्सीन को लेकर जून माह में उत्पादन दस करोड़ होगा और जुलाई में 17 करोड़, अगस्त में 19 करोड़, सितंबर में 40 करोड़ और दिसंबर तक पचास करोड़ से ज्यादा वैक्सीन का उत्पादन कर लिया जाएगा और साल के अंत तक टीकाकरण का काम भी पूरा हो जाएगा। वैक्सीन को लेकर स्वंय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी निगरानी रखे हुए है। साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय वैक्सीन को लेकर पीएमओ को हर रोज अपडेट दे रहा है। सांसद ने बताया कि रशिया की दवा स्पूतनिक-V व अन्य 12 दवा निर्माता कंपनियों को वैक्सीन के उत्पादन की मंजूरी दी गई है। सांसद ने बताया कि इस वक्त देश में ऑक्सीजन की उत्पादन क्षमता भी दोगुनी की गई है। वर्ष 2020 में प्रतिदिन आक्सीजन का उत्पादन 5700 मिट्रिक टन था, जोकि बढ़ाकर 9446 मिट्रिक टन कर दिया गया है। यह केंद्र सरकार की बहुत बड़ी उपल्बिध है। सांसद ने बताया कि प्रधानमंत्री केयर फंड से देशभर में करीब दो हजार से अधिक ऑक्सीजन प्लांट लगाएं जा रहें है, जिन पर काम शुरु हो गया है। उन्होंने बताया कि स्टोरेज टैकों की कमी को भी पूरा कर लिया गया है, अब देश में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं रहेगी और उत्पदान क्षमता भी बढाई गई है। ऑक्सीजन को लेकर सांसद ने पीएम केयर्स फंड से शुरु किये गए बाढ़सा एम्स प्लांट का भी ज्रिक किया। सांसद ने बताया कि ब्लैक फंगस से निपटने के लिए भी प्रदेश सरकार ने ईलाज के लिए एम्फोटेरिसिन बी. इंजेक्शन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए दस लाख इंजेक्शन का आयात करने का निर्णय लिया है और यह शीघ्र ही उपलब्ध हो जायेगी।

बच्चों के लिए भी युद्व स्तर पर वैक्सीन पर काम
सांसद डाक्टर अरविंद शर्मा ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए बच्चों के लिए वैक्सीन पर युद्व स्तर पर काम चल रहा है और कई दवा निर्माता कंपनी इस पर परीक्षण कर रही हैं। सांसद ने बताया कि सफलतापूर्वक परीक्षण के बाद जल्द ही सितम्बर व अक्टूबर माह में बच्चों को भी टीकाकरण में शामिल किया जा सकता है।