राष्ट्रीय ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण में जिला भिवानी देश में पहले स्थान पर -देवेन्द्र सिंह बबली

157
SHARE

 स्वच्छता के क्षेत्र में जनभागीदारी से ही संभव है प्रदेश का विकास: विकास एवं पंचायत मंत्री देवेन्द्र सिंह बबली भिवानी।

राष्ट्रीय ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण में हरियाणा प्रदेश देश में दूसरे नंबर पर तथा जिला भिवानी पूरे देश के ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण में पहले स्थान पर आया है। इस उपलब्धि में विकास एवं पंचायत विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ स्वच्छता सैनिकों, शिक्षा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग तथा सामुदायिक सहयोग करने वाले लागों व संस्थाओं का महत्वपूर्ण योगदान है। इन लोगों को स्वच्छता विषय पर ग्रामीण लोगों को विभिन्न तरीकों से जागरूक किया है। यह बात आज स्थानीय पंचायत भवन में शुक्रवार को हरियाणा के विकास एवं पंचायत मंत्री देवेन्द्र सिंह बबली ने बतौर मुख्य अतिथि जिला स्तरीय स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में कही। उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन 15 सितंबर से लेकर महात्मा गांधी जी के जन्मदिवस दो अक्टूबर तक पूरे देश में हर साल स्वच्छता पखवाड़ा मनाया जाता है।

इस अवधि के दौरान हर गांव में विशेष स्वच्छता अभियान चलाए जा रहे हैं और लोगों को सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग न करने व अपने परिवेश को साफ-सुथरा करने बारे रैलियों, सामुदायिक सहयोग व अन्य माध्यमों से जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भिवानी जिला का पूरे देश के ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण में पहले स्थान पर आना यह दिखाता है कि यहां के अधिकारियों के साथ-साथ ग्रामीण जनता में स्वच्छता के बारे में बहुत जागरूकता है। जिला के 22 गांवों में बरसाती व गंदें पानी का विशेष स्ट्रक्चर बनाकर प्रबंधन किया गया है। इसके साथ-साथ जिला के विभिन्न गांवों में अमृत सरोवर परियोजना के तहत जिला के 24 तालाबों का नवीनीकरण व सौदर्यीकरण किया जा रहा है। विकास एवं पंचायत अधिकारी देवेन्द्र सिंह बबली ने कहा कि हरियाणा की भौगोलिक परिस्थितियां हर जिले में अलग-अलग हैं, इन भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए हमें जिलानुसार ग्रे-वॉटर मैनेजमेंट की तकनीक को अपनाना होगा।

उन्होंने कहा कि एक समय था जब गांवों का हर परिवार अपने घर के साथ-साथ सामने की गली को भी साफ-सुथरा रखता था, पंरतु आज हमने सारा कार्य सरकार व प्रशासन पर छोड़ दिया है। सरकार अपना कार्य कर रही हैं, पंरतु लोगों को भी पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेवारी को समझते हुए अपने परिवेश को साफ रखने में अपना योगदान देना होगा। इस कड़ी में हमें अपने घर के कूड़े का समुचित निपटान करने की तकनीक अपनानी होगी। हरियाणा सरकार शहरों की तर्ज पर गांवों में भी हर घर से कूड़ा उठाने की दिशा में योजना बना रही है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में 18 हजार तालाब हैं। इन तालाबों के जीर्णोद्वार के लिए फेज अनुसार योजना बनाई गई है। पहले फेज के दौरान प्रदेश के 3400 गांवों के लगभग चार हजार तालाबों का जीर्णोद्घार व सौदर्यीकरण किया जा रहा है। इसमें जिला भिवानी के 24 तालाबों का नवीनीकरण व सौदर्यीकरण किया जा रहा है।