भिवानी-महेन्द्रगढ़ जजपा प्रत्याशी राव बहादुर सिंह प्रचार-प्रसार में बुरी तरह पिछड़े

217
SHARE

भिवानी हलचल, अभय ग्रेवाल।

जजपा के भिवानी महेन्द्रगढ़ लोकसभा प्रत्याशी राव बहादुर सिंह अपनी ही कमियों के कारण चुनाव में लगातार पिछड़ते जा रहे है। सुत्रों के अनुसार वह जजपा के पदाधिकारियों से लेकर कार्यकताओं से भी समन्य नही बैठा पा रहे है। वही प्रचार-प्रसार के मामले में शुरू से ही फिसड्डी नजर आ रहे है। उनके प्रसार को देखते हुए यही लगता है कि वह केवल मात्र चेहरा दिखाने के लिए उम्मीदवार बने है। ग्राउंड स्तर पर नजर दौड़ाई जाए तो वह बसपा के उम्मीदवार से भी कमजोर नजर आ रहे है। जजपा पार्टी का अपना एक अच्छा खासा कैडर है , लेकिन राव बहादुर सिंह अब तक स्थानीय नेताओं और कार्यकर्ताओं से रूबरू तक नही हुए है। यहा तक कि जजपा प्रत्याशी को अपने बड़े नेताओं के नाम तक भी नही पता है।

जहां दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय ने कड़ी मेहनत करके जजपा का अच्छा खासा कैडर खड़ा किया था, उसकी अनदेखी कर मनमाने ढंग से चुनाव लड़ रहे रावबहादुर सिंह जजपा की लुटिया डुबोनो में लगे हुए है। हालांकि राव बहादुर सिंह शिक्षा के क्षेत्र में और समाजिक क्षेत्रोंं में काम करने वाले महारथी है, लेकिन चुनाव हमेशा पार्टी कार्यकताओं के दम पर लड़ा जाता है। राव बहादुर सिंह को देखकर यही लग रहा है, कि वह यह चुनाव बिजनेसमैन की तरह लड़ रहे है। अब तक के भिवानी-महेन्द्रगढ़ लोकसभा चुनाव पर नजर दौड़ाई जाए तो जहां कांग्रेस-भाजपा यहां तक की बसपा प्रत्याशियों के चुनाव प्रचार जोर पकड़ चुके है, वही बिजनेसमैन की सोच रखने वाले जजपा उम्मीदवार पिछड़े हुए नजर आ रहे है। यदि समय रहते राव-बहादुर सिंह नही संभले और पार्टी कैडर के लोगों को ऐसे ही अनदेखा करने में लगे रहे तो यह राव-बहादूर का सबसे बुरा चुनाव होगा।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करे ubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal