प्रॉपर्टी आइडी की श्रेणी बदलने के लिए 5 हजार रिश्वत लेता क्लर्क गिरफ्तार

101
SHARE

रोहतक। 

नगर निगम का क्लर्क 5 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों पकड़ा गया है। पीड़ित पक्ष द्वारा इस घटना की वीडियो भी बनाई गई। वहीं मौके पर पास की दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में भी आरोपी क्लर्क अपनी जेब से पैसे निकालकर फेंकता हुआ दिखाई दे रहा है।

इस पर कार्रवाई करते हुए नगर निगम के जॉइंट कमिश्नर महेश कुमार ने रिश्वत लेते हुए पकड़े गए क्लर्क को सस्पेंड कर दिया है। वहीं आरोपी के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए हैं। आरोपी क्लर्क पहले भी सस्पेंड हो चुका है। हालांकि उस समय आरोप रिश्वत का नहीं था। उस दौरान काम में लापरवाही के कारण सस्पेंड किया गया था। वहीं घटना के बाद जमकर हंगामा भी हुआ।

रोहतक व्यापार मंडल के महासचिव एवं हरियाणा व्यापार मंडल के प्रदेश उपाध्यक्ष गुलशन ने बताया कि नगर निगम के कर्मचारी काम करने के लिए रिश्वत मांगने की कई बार शिकायतें आ रही थी। जिसकी उन्होंने अधिकारियों को शिकायत की। वहीं अधिकारियों के साथ मिलकर रिश्वतखोर कर्मचारी को रंगेहाथों पकड़ने का प्लान बनाया।

उन्होंने बताया कि नगर निगम द्वारा प्रॉपर्टी आईडी के काम ऑनलाइन किए जाते हैं। एक व्यक्ति ने प्रॉपर्टी आईडी की फाइल ऑनलाइन कर दी, लेकिन उसकी फाइल पर कार्य नहीं हुआ। उल्टा उससे क्लर्क संदीप ने काम करवाने के लिए 5 हजार रुपए रिश्वत की मांग की। जिसके कारण पीड़ित ने इसकी सूचना हरियाणा व्यापार मंडल के प्रदेश उपाध्यक्ष गुलशन को दी।

इसके बाद गुलशन निजावन ने 500-500 के नोट से 5 हजार रुपए किए। उन नोट की फोटो कॉपी भी करवाई। इसके बाद रिश्वत देने के लिए रुपए लेकर पीड़ित पहुंच गया। उन्होंने आरोप लगाया कि क्लर्क ने पीड़ित का काम करने के लिए 5 हजार रुपए लिए और अपनी जेब में डाल लिए।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal