कोरोना से प्रभावित सेक्टरों को सस्ती दरों पर मिलेगा 100 करोड़ तक का कर्ज:वित्त मंत्री

97
SHARE

कोरोना काल के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को आर्थिक राहत पैकेज की घोषणा की.

New Delhi 28.06.2021

उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में कोरोना से प्रभावित सेक्टरों के लिए 1.1 लाख करोड़ रुपये की लोन गारंटी स्कीम का एलान किया है. इस योजना के तहत 50 हज़ार करोड़ रुपये की लोन गारंटी हेल्थ सेक्टर को, जबकि 60 हज़ार करोड़ रुपये अन्य सेक्टरों को दी जा रही है. इसके तहत 100 करोड़ तक का लोन 7.95 फीसद ब्याज पर दिया जाएगा. जबकि अन्य क्षेत्रों के लिए ब्याज दर 8.25% से ज्यादा नहीं होगी.
केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान करते हुए कहा कि 3 साल के लिए क्रेडिट गारंटी योजना है.छोटे उधारदाताओं को लोन की सुविधा दी जाएगी. 11 हजार टूरिस्ट गाइड को मदद दी जाएगी. वित्त मंत्री ने पर्यटन क्षेत्र को राहत देने के उपायों की घोषणा की. ट्रैवल एजेंसियों को 10 लाख रुपये तक का कर्ज, पर्यटक गाइड को एक लाख रुपये तक का ऋण मिलेगा.
निर्मला ने कहा कि यात्रा प्रतिबंधों के समाप्त होने के बाद सरकार देश की यात्रा पर आने वाले पहले पांच लाख यात्रियों के लिये वीजा फीस से छूट देगी. इस स्कीम के तहत 100 करोड़ रुपए की वित्तीय मदद दी जाएगी और यह एक टूरिस्ट को केवल एक बार स्कीम का लाभ मिल सकेगा.
वित्त मंत्री ने कहा कि आपात ऋण सुविधा गारंटी योजना का दायरा बढ़ाया जा रहा है, इस योजना के तहत एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम), अन्य क्षेत्रों को बिना किसी गारंटी के कर्ज उपलब्ध कराया गया है. वित्त मंत्री ने 25 लाख छोटे कर्ज लेनदारों को निचली ब्याज दरों पर ऋण उपलब्ध कराने के लिए नई योजना की घोषणा की. इसके तहत 1.25 लाख रुपये तक का कर्ज दिया जाएगा.
क्रेडिट गारंटी स्कीम के तहत छोटे कारोबारी, इंडिविजुअल NBFC माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूट से 1.25 लाख रुपये तक का लोन ले पाएंगे. इसका मुख्य मकसद नए ऋण का वितरण करना है. हालांकि, इस पर बैंक के MCLR पर अधिकतम 2 फीसदी ब्याज जोड़कर लिया जा सकेगा. इस लोन की अवधि 3 साल होगी और सरकार गारंटी देगी. इस योजना का लाभ करीब 25 लाख लोगों को मिलेगा. इसके साथ ही, 89 दिन के डिफॉल्टर समेत सभी प्रकार के उधार लेने वाले इसके लिए योग्य होंगे. निर्मला ने कहा कि गरीब कल्याण अन्न योजना नवंबर तक जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि देश में कोने-कोने में लोगों को अन्न पहुंचाने की कोशिश की जा रही है.