फर्जी बेटा बनाकर डोनेट कराई किडनी, कम पैसे मिलने पर खुला राज

264
SHARE

मोहाली।

डेराबस्सी के इंडस इंटरनेशनल में किडनी ट्रांसप्लांट के मामले की जांच पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) करेगी। SP रूरल नवरीत सिंह की अगुआई में बनाई इस जांच कमेटी में ASP डॉ. दर्पण आहलूवालिया और डेराबस्सी के SHO जसकंवल सिंह सेखों को शामिल किया गया है। वहीं इस मामले में मेडिकल रिसर्च एवं एजुकेशन डायरेक्टर ने इंडस अस्पताल का किडनी ट्रांसप्लांट का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है। इस पूरे रैकेट के पीछे इंटरनेशनल गिरोह होने का भी शक जताया जा रहा है। जो लोगों से किडनी के बदले लाखों रुपए वसूलते थे। इसके तार मुंबई से जुड़े होने के भी इनपुट मिल रहे हैं।

कपिल को जो पैसे मिले, उसने उसमें से 4 लाख रुपए जुए में उड़ा दिए। दोस्तों के कहने पर उसने मोबाइल एप में रुपए दोगुने करने के लालच में रकम गंवा दी। इसके बाद वह और पैसे मांगने लगा। जिसको लेकर उसने हंगामा मचा दिया और पुलिस हेल्पलाइन नंबर 112 पर शिकायत कर दी। कपिल ने आरोप लगाया कि उसे 10 लाख की जगह सिर्फ साढ़े 4 लाख रुपए देकर घर भेजने के बजाय कमरे में बंद कर दिया गया।

इस मामले में इंडस अस्पताल के MD डॉ. रमनदीप सिंह ने कहा कि किडनी ट्रांसप्लांट से जुड़े सभी डॉक्यूमेंट्स की जांच का जिम्मा कोऑर्डिनेटर अभिषेक का था। उसने लापरवाही बरती है। DNA सैंपल भी जांच के लिए लैब में भेजे जाते थे, सैंपल पास कैसे हुए, उन्हें इसके बारे में पता नहीं है। इस काम में अस्पताल की कोई भूमिका नहीं है। पहले के केसाें में ऐसी कोई बात नहीं है।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal