परिवार पहचान पत्र बना परेशानी:छात्रा के परिवार की इनकम 9 करोड़ दिखाई, अब नौकरी के लिए आवेदन नहीं कर पा रही

286
SHARE

हरियाणा के करनाल में परिवार पहचान पत्र लोगों के लिए परेशानी बना हुआ है। परिवार पहचान पत्र में दिए गए इनकम, मोबाइल नंबर अचानक की बदल गए, जो अब ठीक नहीं हो पा रहे। ऐसे में लोगों को दर-दर ठोकरें खानी पड़ रही है। वहीं इस परेशानी से कोई बुढ़ापा पेंशन के लिए आवेदन नहीं कर पा रहा है तो कोई नौकरी व स्कॉलशिप के लिए आवेदन नहीं कर पा रहा।

आए दिन प्रशासन के पास ऐसी शिकायतें पहुंच रही हैं। जिनका कोई समाधान नहीं हो रहा है। ऐसा ही एक मामला करनाल में सोमवार को एक छात्रा का आया, जिसकी इनकम अचानक 9 करोड़ हो गई। डीसी निशांत कुमार यादव ने कहा कि ऐसी कई शिकायतें आ रही हैं। इन्हें सरकार को अवगत करवाया जाएगा।

गांव उंचा समाना निवासी सोमन ने बताया कि उसे नौकरी के लिए आवेदन करना था। जब आवेदन के लिए पोर्टल खोला तो उसकी फैमिली आईडी में आय 9 करोड़ सालाना दिखाई है। ऐसा होने से वो फार्म नहीं भर पा रही। जब उन्होंने फैमिली आईडी बनवाई थी तो उस समय उसके पिता की इनकम 1 लाख 36 हजार रुपS लिखवाई गई थी। वो उस समय भी स्टूडेंट थी और आज भी पढ़ाई कर रही है।

उसके परिवार ने उसकी आय को कभी भी चेंज नहीं करवाया। ऐसे में उसकी इनकम कैसे गलत हुई, उसे व उसके परिवार को नहीं पता। अब ठीक करवाने के लिए अलग-अलग सीएससी केंद्रों पर गई। वहां से उसे एडीसी कार्यालय में भेजा गया। एडीसी कार्यालय में जाने पर उन्हें कहा गया कि परिवार पहचान में इनकम ठीक का कोई प्रावधान नहीं है। इसके बाद उन्होंने डीसी निशांत यादव को अपनी समस्या सुनाई और मांग की कि हमारी फैमिली आईडी में इनकम ठीक की जाए।

उम्र गलत, ठीक नहीं होने से बुढ़ापा पेंशन रुकी

नीलोखेड़ी निवासी मानी देवी ने बताया कि उसके परिवार पहचान पत्र में 1 जनवरी 1956 आयु थी। यही जन्मतिथि उसके आधार कार्ड में है। जब वो वोट कार्ड में उम्र पूरी होने के बाद कॉमन सर्विस सेंटर पर बुढ़ापा सम्मान भत्ता का आवेदन करने के लिए गई तो वहां पर उसकी जन्मतिथि 1 जनवरी 1963 मिली। ऐसे में आवेदन नहीं कर पाई। इसके लिए अलग-अलग जगहों पर शिकायत दे चुकी हैं, लेकिन कोई समाधान नहीं हो रहा है।

मोबाइल नंबर के कारण रुकी स्कॉलरशिप

निशा रानी ने बताया कि उसे स्कॉलरशिप के लिए आवेदन करना था। उसके परिवार पहचान में लिखा हुआ मोबाइल नंबर गलत मिला। जबकि उन्होंने अपने सामने ही उसे ठीक से दर्ज करवाया था। पता नहीं उसका फोन नंबर कैसे गलत हो गया। इसके लिए कई बार शिकायत कर चुके हैं। लेकिन अभी तक मोबाइल नंबर ठीक नहीं हो रहा। एडीसी कार्यालय में उन्हें कहा गया कि जब तक इस नंबर पर गए ओटीपी को नहीं बताओगे ये नंबर ठीक नहीं होगा। जबकि जो 10 अंक मोबाइल नंबर वाले कॉलम में भरे गए हैं वो किसी भी कंपनी के मोबाइल नंबर से मेल नहीं खाते। ऐसे नंबर पर न तो ओटीपी जा रही और न ही कोई समाधान हो रहा।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal