परिवार की आमदनी बढाने के लिए अंत्योदय मेले में उमड़ी भारी भीड़

51
SHARE
पंचायत भवन में आयोजित किया गया भिवानी ब्लॉक ग्रामीण के तहत मेला
सबसे अधिक लोग पशुपालन का व्यवसाय करने के इच्छुक
Bhiwani Halchal 09मार्च। मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना के लिए बुधवार को स्थानीय पंचायत भवन परिसर में भिवानी भिवानी ब्लॉक ग्रामीण क्षेत्र का मेला आयोजित किया गया। मेले में चिन्हित किए 2911 परिवारों को बुलाया गया। मेले में लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। अधिकांश लोग पशुपालन का व्यवसाय करने के इच्छुक थे, जिनमें बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल थी।
उल्लेखनीय है कि प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार अत्यंत गरीब परिवार, जिनकी आय एक लाख रुपए से कम है, उनकी सालाना आय कम से कम एक लाख 80 हजार रुपए तक पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा अंत्योदय परिवार उत्थान योजना के तहत प्रत्येक खंड स्तर पर मेलों का आयोजन किया जा रहा है। मेले में निर्धारित पैमाने पर चिन्हित किए गए परिवारों को बुलाया जा रहा है और उनकी योग्यता व इच्छा के अनुरूप आवेदन लिए जा रहे हैं। आवेदन के जरूरी दस्तावेज लेने व सारी औपचारिकताएं पूरा करने के बाद उनको बैंक के पास ऋण स्वीकृति के लिए भेजा रहा है।
डेस्क लगाकर दी व्यवसाय की जानकारी
इसी कड़ी में पंचायत भवन में आयोजित मेले में सुबह से ही भारी भीड़ उमड़ी। पशुपालन विभाग की स्टॉल पर दो अतिरिक्त टेबल लगाई गई। लोगों की काऊंसलिंग के लिए परिसर में पांच टेबल लगाई गई। यहां पर शिक्षा विभाग से जयबीर नाफरिया, मनीष कुमार, संजय कुमार, अनिल, चंदन, हेमंत, अशोक ढांडा, प्रवेश गौतम व संदीप कुमार ने लोगों को रोजगार से संबंधित जानकारी देकर संबंधित विभागों के पास भेजा। मेले में बिना चिन्हित किए गए भी अनेक लोग पहुंचे, जिनको यहां पर रोजगारपरक जानकारी दी गई।
अधिकतर लोग पहुंचे पशुपालन के इच्छुक
अंत्योदय परिवार उत्थान मेले में अधिकांश लोग पशुपालन का व्यवसाय करने के इच्छुक थे,जिनमें बड़ी संख्या में महिलाएं थी। मेले में पहुुंची गांव धिराना निवासी ज्योति, ममता, संतोष व संदीप ने बताया कि वे पशुपालन करना चाहते हैं और मेले में अपनी सभी औपचारिकताएं पूरी करवा रहे हैं। पशुपालन से उनके परिवार का लालन पालन सही ढंग से हो जाएगा। यह योजना बहुत ही अच्छी है, जिसके माध्यम से वे अपना रोजगार शुरु कर सकते हैं। इसी प्रकार गांव मानेहरू निवासी कमलेश व सुमन ने बताया कि वे भी पशुपालन करना चाहती हैं और भैंस के लोन के लिए अपनी कागजी कार्रवाई पूरी करवा रही हैं। बीरण निवासी विनोद कुमार ने बताया कि उन्होंने पशुपालन के लिए आवेदन किया है। कोहाड़ निवासी शिव कुमार ने बताया कि उन्होंने भेड़ पालन के लिए फार्म भरा है।
मशरूम व मधुमक्खी पालन के लिए 15 दिन का प्रशिक्षण जरूरी
मेले के दौरान बागवानी सलाहकार हर्ष कुमार ने बताया कि सरकार द्वारा अनुसूचित जाति/जनजाति वर्ग के लिए 90 प्रतिशत अनुदान है। मधुमक्खी पालन व मशरूम का व्यवसाय करने के लिए 15 दिन का प्रशिक्षण लेना जरूरी है। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण हिसार या करनाल में होता है। उन्होंने बताया कि अधिकारी जानकारी भिवानी स्थित नई अनाज मंडी में बागवानी विभाग या अपने संबंधित नजदीकी बागवानी विभाग के कार्यालय से ले सकते हैं।
मेले के दौरान जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी आशीष मान पूरा दिन अपनी देखरेख में प्रक्रिया पूरी करवाने में लगे रहे। उनके साथ खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी सोमवीर कादयान, एलओ अनूप सिंह व संबंधित विभागों के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे। इसके साथ ही नगराधीश विजय कुमार यादव और सीएमजीजीए गौरव सिरोही ने मेले का निरीक्षण किया और अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।
मेले में पशुपालन विभाग, बाल कल्याण परिषद, महिला विकास निगम, कौशल विकास, अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग, रोजगार विभाग, हरियाणा रेडक्रॉस सोसायटी, हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद, हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन, हरियाणा महिला विकास निगम, हरियाणा पिछड़े वर्ग एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग कल्याण निगम, हरियाणा डेयरी विकास सहकारी प्रसंघ लिमिटिड, हरियाणा कौशल विकास मिशन, हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन लिमिटेड, हरियाणा अनुसूचित जातियां वित्तीय एवं विकास निगम, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम निदेशालय, सीएससी ई-गवर्नेस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड, शहरी स्थानीय निकाय विभाग, विकास एवं पंचायत विभाग, रोजगार विभाग, मत्स्य पालन विभाग, पशु पालन और डेयरी विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, उद्यान विभाग द्वारा स्टॉल लगाई।