शादी कराने के नाम पर लिए रुपये, वापस मांगे तो पत्थरों से लहूलुहान कर आग में डाला

65
SHARE

राजू की पहली पत्नी की मौत हो चुकी थी और वह बच्चों की परवरिश के लिए दूसरी शादी करना चाहता था। आरोपियों ने उससे शादी कराने की एवज में रुपये लिए, लेकिन जब राजू ने शादी के लिए दिए रुपये मांगे तो उसे साजिश के तहत मार डाला।

हरियाणा के रेवाड़ी में पुलिस ने शनिवार को राजू हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। पुलिस के अनुसार पीड़ित ने पहली पत्नी की मौत के बाद बच्चों की परवरिश के लिए दूसरी शादी करना चाह रहा था। इसलिए उसने दो युवकों को शादी कराने के लिए 30 हजार रुपये दे रखे थे। शादी नहीं होने पर उसने अपने रुपये मांगे। इस पर आरोपियों ने शुक्रवार की रात हत्या कर दी। साथ ही उसके शव को आग में डाल दिया। आरोपियों ने पुलिस के समक्ष हत्या की वारदात कुबूल की है। उन्होंने बताया कि राजू अपने रुपये मांग रहा था, रुपये न देना पड़े इसलिए उसकी हत्या कर दी।

बावल डीएसपी राजेश चेची ने पत्रकार वार्ता में बताया कि उत्तर प्रदेश के जिला हाथरस के गांव नंगला भूस निवासी राजू (45) के 4 बच्चे हैं। उसकी पत्नी की डेढ़ साल पहले मौत हो चुकी है। बच्चों की परवरिश के लिए उसने दूसरी शादी का मन बनाया था। इसी बीच उसकी मुलाकात यूपी के जिला फिरोजाबाद निवासी अजय व अंकित से हो गई।

दोनों ने राजू से उसकी शादी कराने की बात करते हुए 30 हजार रुपये एडवांस ले लिए और 10 हजार रुपये शादी के बाद में लेने की बात की, लेकिन काफी समय बाद भी जब राजू की शादी नहीं हुई तो उसने अपने रुपये मांगे। बस यहीं से आरोपियों ने उसे ठिकाने लगाने का प्लान बना लिया।

उन्होंने बताया कि आरोपी राजू की शादी कराने के बहाने रेवाड़ी लेकर आए। यहां सिर पर पत्थर से वार करने के बाद उसे आग के हवाले कर दिया। पुलिस ने कुछ ही घंटों में हत्या की गुत्थी सुलझा ली। साथ ही मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। शुक्रवार दोपहर बाद रेवाड़ी के गांव टांकड़ी में पहाड़ों के पास कोठड़े में एक 45 वर्षीय व्यक्ति की अधजली लाश बरामद हुई थी।

उसके सिर पर चोट के निशान भी मिले थे। पुलिस और परिजनों ने हत्या की आशंका जताई थी। उसकी शनाख्त नहीं हो पाई थी। बावल पुलिस अभी हत्या और सुबूत मिटाने की धारा के तहत केस दर्ज कर जांच ही कर रही थी। इसी बीच रात 8 बजे डायल-112 पर ऐसी कॉल आई जिसने इस हत्या की गुत्थी को सुलझा दिया।

ऐसे पकड़े गए दोनों आरोपी

डीएसपी ने बताया कि डायल-112 पर एक नाबालिग लड़की ने कॉल की थी। उसने पुलिस को बताया कि उसके पापा को दो युवक लेकर गए हैं। युवक तो लौट आ गए, लेकिन अभी तक उनके पापा घर नहीं आए। कॉल बावल एरिया के ही जलियावास स्थित एक किराये के मकान से की गई थी। पुलिस को शक हुआ कहीं यह वही शख्स तो नहीं, जिसकी लाश मिली है। पुलिस तुरंत जलियावास में किराये के मकान पर पहुंची और दोनों युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो हत्या की गुत्थी सुलझ गई।

पांच दिन पहले आरोपी युवक हाथरस लेकर गए थे पिता-पुत्री को

पुलिस ने बताया कि 5 दिन पहले आरोपी अजय व अंकित राजू को शादी कराने की बात कहकर अपने साथ लेकर हाथरस से चले थे। उनके साथ राजू की 16 साल की बेटी भी थी। 27 जनवरी को चारों रेवाड़ी जंक्शन पर पहुंचे और फिर रेवाड़ी के ही गांव जलियावास में पहुंच गए। चूंकि आरोपी अजय 2 साल पहले बावल औद्योगिक क्षेत्र स्थित एक कंपनी में नौकरी करते हुए जलियावास में किराये पर रहकर गया था। इसलिए उसने अपनी आईडी पर यहीं किराये पर कमरा ले लिया। उसी दिन दोपहर में दोनों आरोपी नाबालिगलड़की को कमरे पर छोड़ गए और फिर राजू को पैदल-पैदल लेकर गांव टांकड़ी की पहाड़ी पर स्थित एक मंदिर में लेकर गए। वापस रात 8 बजे अंधेरे और ठंड ज्यादा होने के कारण तीनों टांकड़ी के सुनसान जगह बनी एक कोठड़ी में ठहर गए।

ठंड के बहाने जलाई थी आग

डीएसपी ने बताया कि आरोपियों ने कोठड़े में ठंड से बचने के लिए आग जलाई। इसी बीच एक आरोपी ने पीछे से एक पत्थर उठाकर राजू के सिर में मार दिया। उसके बाद दोनों ने मिलकर पत्थरों से उसके सिर पर काफी वार दिए और फिर लहूलुहान हालत में वहां जल रही आग में राजू को डाल दिया। उसी रात 1 बजे दोनों आरोपी कमरे पर पहुंचे।

शुक्रवार को राजू की बेटी ने जब आरोपियों से पिता के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि तुम्हारे पापा की शादी करा दी है। वह पत्नी को साथ लेकर सीधे हाथरस पहुंचेंगे। इस बीच आरोपियों ने नाबालिग को अपने साथ ले जाने की भी कोशिश की, लेकिन बेटी पापा को बुलाने की जिद्द पर अड़ी रही। फिर शाम को डायल-112 पर पिता की गुमशुदगी की शिकायत दी। यहीं से हत्याकांड का खुलासा हो गया।

 

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal