पुलिस का दावा अंजलि केस में 7 आरोपी, 4 कार में थे

119
SHARE

दिल्ली।

दिल्ली के कंझावला हादसे में फिर पुलिस की थ्योरी पलट गई है। पुलिस के हवाले से शुक्रवार को मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि अंजलि को घसीटने के दौरान कार में 5 नहीं 4 आरोपी मौजूद थे। दीपक नाम का आरोपी घर में था, लेकिन उसने शुरूआती जांच में पुलिस को बताया कि वह कार चला रहा था।

पुलिस के मुताबिक, कार चलाने वाले आरोपी का नाम अमित है और उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं है। गाड़ी से अंजलि का एक्सीडेंट होता है। इसके बाद वह अपने दोस्त दीपक के पास पहुंचकर सारी घटना बताता है। लाइसेंस न होने की बात सुनकर दीपक गाड़ी चलाने की जिम्मेदारी अपने ऊपर ले लेता है।

पुलिस ने 1 जनवरी को मनोज मित्तल, अमित खन्ना, कृष्ण, मिथुन और दीपक खन्ना को गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने इन्हें पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया। पुलिस ने चार दिन की जांच के बाद 5 जनवरी को बताया कि इस केस में दो और लोग शामिल हैं। इनका नाम अंकुश खन्ना और आशुतोष हैं। आशुतोष को गिरफ्तार कर लिया गया। सातवां आरोपी अंकुश खन्ना अभी फरार है।अब पुलिस कह रही है कि घटना वाली रात को कार में मनोज मित्तल, अमित खन्ना, कृष्ण और मिथुन थे।

पुलिस ने 5 जनवरी को 3 बड़े खुलासे किए। पहला- आरोपी 5 नहीं, बल्कि 7 हैं। दूसरा- आरोपियों का मृतक लड़की अंजलि और चश्मदीद निधि के साथ पुराना कनेक्शन नहीं है। तीसरा- जो लड़का कार चला रहा था, उसका नाम अमित है। उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं है।

इसके अलावा पुलिस ने बताया कि आरोपियों को पता था कि लड़की कार के नीचे फंसी है। इसके बाद भी वे गाड़ी चलाते रहे। हादसा 31 दिसंबर की रात को 2 बजकर 4 मिनट से 2 बजकर 6 मिनट के बीच हुआ। अंजलि का मोबाइल अभी तक नहीं मिल पाया है।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal