प्रदेश में एक अक्टूबर से शुरू होगी बाजरे की खरीद :कृषि मंत्री जेपी दलाल

187
SHARE

हरियाणा में दो लाख एमटी बाजरे की होगी खरीद : कृषि मंत्री
बाकी मेरी फसल मेरा ब्योरा पोर्टल पर दर्ज बाजरे की उपज के लिए किसान को भावांतर भरपाई योजना के तहत किसान के खाते में डाली जाएगी भावांतर की राशि
लोहारू/बहल/सिवानी मंडी  ।

प्रदेश के कृषि एवं पशुपालन मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि किसान हित को सर्वोपरि मानते हुए प्रदेश में एक अक्टूबर से बाजरे की सरकारी खरीद शुरू की जायेगी। खरीफ सीजन की फसलों की खरीद भी पहली अक्टूबर से आरंभ होगी। सरकार द्वारा दो लाख मीट्रिक टन बाजरे की खरीद की जाएगी। बिजाई के रकबे को देखते हुए शेष उपज के लिए किसानों को भावांतर भरपाई योजना का लाभ दिया जाएगा।
कृषि मंत्री ने कहा कि किसान को किसी प्रकार की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए फसलों की खरीद के लिए की गई एक सौ से अधिक मण्डियों की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने कहा कि खरीफ फसलों की खरीद एक अक्टूबर से की प्रारंभ होगी। इस दौरान मूंग, मूंगफली, अरहर, उड़द और तिल की खरीद होगी। इस संबंध में कृषि मंत्री जेपी दलाल ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि विपणन सत्र – 2022-23 के दौरान खरीफ फसलों की खरीद के लिए पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की जाए ताकि किसानों को अपनी फसल बेचने में कोई परेशानी न हो।
उल्लेखनीय है कि वर्तमान प्रदेश सरकार हित को सर्वोपरि मानते हुए हरियाणा के किसानों को सशक्त व समृद्ध बनाने के लिए अनेक योजनाओं को लागू कर रही है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में राज्य सरकार निरंतर किसानों के हित में कल्याणकारी योजनाएं चला रही है। सरकार ने एक नई पहल शुरू करते हुए बागवानी किसानों को जोखिम मुक्त करने के लिए भी मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना चलाई है। इसके अलावा, राज्य सरकार निरंतर बागवानी फसलों को बढ़ावा देने के लिए फसल विविधीकरण को अपनाने हेतु किसानों को प्रोत्साहित कर रही है।

उन्होंने बताया गया कि विपणन सत्र 2022-23 के दौरान मूंग की खरीद एक अक्टूबर से शुरू होगी और यह 15 नवंबर, 2022 तक जारी रहेगी। मूंगफली की खरीद एक नवंबर से 31 दिसंबर 2022 तक की जाएगी। इसके अलावा, अरहर, उड़द और तिल की खरीद एक दिसंबर से शुरू होगी और 31 दिसंबर 2022 तक जारी रहेगी। खरीफ फसलों की खरीद भारत सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर की जाएगी। राज्य खरीद एजेंसियों जैसे हरियाणा राज्य भंडारण निगम और हैफेड के अलावा नैफेड द्वारा खरीफ फसलों की खरीद की जाएगी।

खरीफ फसलों की निर्बाध खरीद के लिए 100 से अधिक मण्डियों की गई व्यवस्था

कृषि मंत्री ने बताया कि खरीफ फसलों की निर्बाध खरीद सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त संख्या में मण्डिय़ों की व्यवस्था की गई है। मूंग की खरीद के लिए 16 जिलों में 38 मंडियां, अरहर की खरीद के लिए 18 जिलों में 22 मंडियां, उड़द की खरीद के लिए 7 जिलों में 10 मंडियां, मूंगफली की खरीद के लिए 3 जिलों में 7 मंडियां तथा तिल की खरीद के लिए 21 जिलों में 27 मंडियां खोली गई हैं।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal