श्रीमहंत डा. अशोक गिरी महाराज ने बताए दीपावली पर्व पर पूजा की विधि

222
SHARE

भिवानी :

सनातन धर्म में दीपावली का विशेष महत्व है। दीपावली का पर्व अधर्म पर धर्म के प्रतीक के तौर पर मनया जाता है। यह दीपों का त्यौहार है। ऐसे में प्रत्येक जन को चाहिए दीपों के त्यौहार को दीप जलाकर व एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर मनाना चाहिए। यह बात स्थानीय हालुवास गेट स्थित सिद्धपीठ बाबा जहरगिरी आश्रम के पीठाधीश्वर अंतर्राष्ट्रीय श्रीमहंत जूना अखाड़ा डा. अशोक गिरी महाराज ने कही। इस दौरान उन्होंने दीपावली मनाने के दिन पूजन करने की विधि भी बताई। श्रीमहंत डा. अशोक गिरी महाराज ने बताया कि सनातन धर्मावलंबियों के प्रमुख त्योहारों में से एक पांच दिवसीय पर्व दीपावली भी है। दीपावली पर माता लक्ष्मी पूजन और रीद्धि-सिद्धि के दाता गणेश की पूजा का महत्व कुछ खास ही माना जाता है। दीपावली की रात वैसे भी अमावस्या होती है और अमावस्या को वैसे भी बहुत रहस्यमयी माना जाता है। उन्होंने बताया कि दीपावली पर माता लक्ष्मी व गणेश पूजन विशेषफल दायक होता है। उन्होंने बताया कि दीपावली की रात को शाक्त शक्ति का विशेष रूप से आह्वान करते हैं, ताकि पूजा करके अपनी शक्तियों को बढ़ा सकें। उन्होंने बताया कि दीपावली की रात महाकाली, मां तारा, मां षोडशी, मां भुवनेश्वरी, मां छिन्नमस्तिका, मां त्रिपुर भैरवी, मां धूमावती, माता बगलामुखी, मां मातंगी व मां कमला 10 महाविधाओं की पूजा-अर्चना की जाती है।

उन्होंने बताया कि इन महाविधाओ की श्रृद्धापूर्वक साधना करने से सभी प्रकार की बाधाएं दूर होती हैं तथा आत्म-ज्ञान बढऩे के साथ-साथ अलौकिकता भी आती है। श्रीमहंत ने बताया कि मान्यता के अनुसार महालक्ष्मी के महामंत्र ऊँ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद् श्रीं ह्रीं श्रीं ऊँ महालक्ष्मयै नम: का कमलगट्टे की माला से कम से कम 108 बार जपने से मां लक्ष्मी की अपार कृपा बनती है। उन्होंने कहा कि लक्ष्मी पूजन में सुपारी रखें। सुपारी पर लाल धागा लपेटकर अक्षत, कुमकुम, पुष्प आदि पूजन सामग्री से पूजा करें और पूजन के बाद इस सुपारी को तिजोरी में रखें। पूजा में सब से पहले। लाल। आसानी और पूजा सामग्री लेकर गणेश गुरु गायत्री गंगा ध्यान करके पूजा आरंभ करें, फिर अंतिम में लक्ष्मी की पूजा करें। चांदी की डिब्बी में पांच नागकेसर और शहद मिलाकर डिब्बी को लक्ष्मी पूजा स्थान पर रखे फिर रात्रि सिंह लगन में घंटी शंख बजाकर अपने घर के धान स्थान में रखे, इससे सभी तरह की बाधा समाप्त होगी।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal