गौसेवकों के 22 दिनों के संघर्ष के बाद झुका प्रशासन : मानी गौसेवकों की मांगे

274
SHARE

विधायक व नप पूर्व चेयरमैन ने गोसवकों की उपायुक्त व एसडीएम से मीटिंग करवा करवाया समाधान
जांच के लिए नोडल अधिकारी किया नियुक्त तो उपायुक्त आवास का नंबर दिया हेल्पलाइन के तौर पर
गौसेवक कई बार घायल गायों को लेकर कृषि मंत्री व विधायक के आवास कर कर चुके थे प्रदर्शन
भिवानी :

घायल गाय व अन्य जानवरों के उपचार के लिए मना करने वाले पशु चिकित्सकों को सस्पैड करने, घायल जानवरों के ईलाज के लिए एक टोल फ्री नंबर जारी करने, प्रत्येक घायल जानवर के लिए 24 घंटे पशु चिकित्सकों की ड्यूटी सुनिश्चित किए जाने, पशुओं के लिए मोबाईल वैन लगाए जाने, सांसद धर्मबीर सिंह द्वारा नगर परिषद के नाम दी गई एंबुलैंस में ड्राईवर की व्यवस्था किए जाने की मांग को लेकर पिछले 22 दिनों से संघर्षरत्त गौसेवकों के आगे आखिरकार प्रशासन झुक ही गया। विधायक घनश्याम सर्राफ एवं नगर परिषद पूर्व चेयरमैन भवानी प्रताप की मध्यस्थता में उपायुक्त व एसडीएम से हुई मीटिंग में जिला प्रशासन द्वारा गौसेवकों की सभी मांगे मान ली गई है, जिसके बाद 22वें दिन गौसेवकों ने अपना धरना समाप्त किया।
बता दें कि घायल गाय व अन्य घायल जानवरों के समय व मौके पर उपचार की मांग व पशु चिकित्सकों पर लापरवाही पर आरोप लगाकर गोसवकों ने 14 सितंबर से स्थानीय पुलिस लाईन के सामने भिवानी पॉलिक्लीनिक के पास धरना दिया थ। अपनी मांगो को लेकर ये गोसेवक कई बार कृषि मंत्री, सांसद व विधायक के घर पर घायल गायों को ले जाकर विरोध भी जता चुके थे। सोमवार को विधायक घनश्याम सर्राफ ने गोसवकों की उपायुक्त से मीटिंग करवाई और उनकी मांगो को पूरा करवाया, इसके बाद मंगलवार को विधायक घनश्याम सर्राफ ने मौके पर पहुंच कर धरना खत्म करवाया।  अपनी मांग पूरी होने पर गोसवकों ने संतुष्टि जताते हुए ख़ुशी-ख़ुशी ये धरना खत्म कर दिया।
इस मौके पर गौसेवा दल के प्रधान संजय परमार ने कहा कि उनकी मांगे थी कि सडक़ हादसे में घायल पशु जानवरों उपचार पशु चिकित्सक द्वारा मौके पर पहुंच कर किया जाए। उन्होंने किसी भी समय पशु चिकित्सक की सेवा के लिए हेल्पलाइन नंबर दिया जाए और इलाज में कोताही या लापरवाही बरतने वाले चिकित्सकों के खिलाफ कार्यवाही की जाए। उन्होंने बताया कि विधायक की मौजूदगी में उपायुक्त ने सभी मांगे मानी है, जिसके बाद उन्होंने धरना खत्म कर दिया है। साथ ही उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा यदि उनसे वायदाखिलाफी हुई या पशु चिकित्सकों ने किसी प्रकार की लापरवाही दिखाई तो वे फिर से पशु चिकित्सकों के खिलाफ मोर्चा खोलने से गुरेज नहीं करेंगे।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal