फर्जी लॉन एप से रहे सावधान, बगैर ऋण लेकर भी हो जाएंगे कर्जदार :- अजीत सिंह शेखावत

216
SHARE
भिवानी।
पुलिस अधीक्षक भिवानी अजीत सिंह भा०पु०से० के मार्गदर्शन नें जिला भिवानी में पुलिस द्वारा विशेष जागरुक अभियान चलाकर लोगो को साईबर अपराधो से बचनें हेतु जागरुक किया जा रहा है। जो इस अभियान के तहत पुलिस द्वारा शहरी/ग्रामीण क्षेत्र तथा स्कूल, कॉलेज इत्यादि में जागरुक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है और लोगो को नये तकनीकी के बारें जागरुक किया जा रहा है कि किस प्रकार से साइबर क्रिमनल नये -2 तरीके अपनाकर लोगो को बेवकूफ बनाकर धोखाधडी करते है ।
वर्तमान समय में फर्जी लॉन एप के माध्यम से आसान तरीके से कर्ज मिलने के चक्कर में लोग अपनी जान गवां रहे है क्योकि आजकल आसानी से ऑनलाइन लोन एप के जाल में सैकड़ों लोग फंसे हुए हैं । जो कर्ज मंजूर करते वक्त फर्जी कंपनियां आवेदक का फोन हैक कर लेती हैं और फिर किस्त व ब्याज न देने पर अश्लील फोटो बनाकर बदनाम करने लगते हैं । कर्मचारी आवेदक के रिश्तेदारों, परिचितों और रिश्तेदारों को फोन कर अपशब्दों का भी प्रयोग करते हैं जिस बदनामी के डर से लोगो गलत कदम उठा लेते है। ऐसे फर्जी लॉन एप से सावधान रहें  और डरे नही अगर कोई व्यकित आपको ब्लेकमेल करता है तो तुरन्त साईबर हेल्पलाईन नम्बर 1930 पर कॉल करें इसके अलावा नजदीकी पुलिस स्टेशन जाकर साइबर हेल्पडैस्क की मदद लें ।
 जब लोन देनें वालें एप के रिकवरी एजेंट कॉल करते धमकिया देकर ज्यादा पैसे वसुलते है और आपके द्वारा पुरी किस्त देनें पर भी आप पर कर्ज दिखाती है फिर 6-7 दिन में लॉन पर कर्ज की कुल राशि का दोगुना ब्याना मांगा जाता है फिर कर्जदाता चुकानें में नाकाम होनें पर उनकी तस्वरो में फेरबदल करके उनकी आपत्तिजनक बनाकर सार्वजनिक किया जात है  जिससे डिप्रेशन में आकर कुछ कर्जधारक खुद को नुकसान भी पहुंचाते है।
ऐसे साइबर अपराधियों से कैसे बचें :- 
 सबसे पहले तो लोन देने वाले ऐप या कंपनी के बारे में ये जांच करें कि क्या वह आरबीआई की अनुमति से लोन दे रही है या नही ।
 कोई लोन ऐप किसी बैंक या एनबीएफसी के नाम पर कर्ज बांटने का दावा करता है तो उसे भी संबंधित बैंक या एनबीएफसी से क्रॉस चेक जरूर करें ।
ऐप आपको जो भी लोन दे रहा है उसकी ब्याज दरें पहले से निर्धारित करा लें और उसका एक एग्रीमेंट भी करा लें, ताकि बाद में आपसे ज्यादा ब्याज की वसूली न हो सके ।
अगर आपको कोई लोन ऐप चुकाई जाने वाली किस्त, भुगतान की अवधि और भुगतान के तरीके के बारे में पहले से ही स्पष्ट  रूप से जानकारी नहीं देती तो ऐसे लोन ऐप से दूर रहने में ही भलाई है।
 ऐप से लोन लेने से पहले ब्याज दर को लेकर चीजें स्पष्ट की जानी बहुत जरूरी हैं अगर कोई ऐप कह रहा कि वह 4 फीसदी ब्यारज पर कर्ज देगा तो यह जरूर पूछें कि ब्याज मासिक लगेगा या सालाना , कुछ ऐप दावा करते हैं कि 4 फीसदी ब्याज पर कर्ज देंगे और बाद में पता चलता है कि ये दर मासिक थी,  इस तरह आप पर सालाना 48 फीसदी ब्या्ज का बोझ आ सकता है।
 ऐसे लोन ऐप जो प्रोसेसिंग शुल्क के नाम पर ज्यादा पैसे मांगते हों या प्री-पेमेंट अथवा प्री-क्लोयजर फीस ज्यादा मांगते हैं, उन पर यकीन न करें ।
 अगर कोई ऐप आपको बैंक खाते की जानकारी, डेबिट-क्रेडिट कार्ड का पिन अथवा ऐसी ही अन्य पर्सनल जानकारियां मांगता है तो उससे भी सावधान रहें ।
 जिस ऐप से आप लोन के लिए अप्लाई कर रहे हैं, उसकी रेटिंग और रिव्यू को भी जरूर देखें।
 बेहतर होगा कि आप किसी बैंक या एनबीएफसी से जुड़े एप के जरिये ही कर्ज के लिए आवेदन करें ।
किसी भी प्रकार की वित्तीय या ऑनलाइन धोखाधड़ी होने पर 1930 पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करवाएं या आपके संबंधित थाने में स्थापित साईबर हेल्पडेस्क पर शिकायत दे।
अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal