मिनी क्यूबा भिवानी से उठी खेल कोटा बहाल करने की मांग

18
SHARE
भिवानी :
हरियाणा को खिलाडिय़ों व जवानों का प्रदेश माना जाता है। बावजूद इसके वर्ष 2023 खेल व खिलाडिय़ों के लिए संकट व परेशानी लेकर आया है। फिर वो चाहे अपनी मांगो को लेकर दिल्ली में धरने पर बैठे खिलाड़ी हो या फिर अब भिवानी में सडक़ों पर उतरे खिलाड़ी हो। इसी कड़ी में सोमवार को एवं द्रोणाचार्य अवॉर्डी कोच सहित अनेक कोच व राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाडिय़ों ने शहर में प्रदर्शन किया।
इस दौरान उनके साथ दिव्यांग संगठन, शहीद भगत सिंह क्लब तोशाम, अंबेडकर सभा भिवानी, जाट सभा भिवानी, पिछड़ा वर्ग सभा, पंजाबी सभा, जनवादी महिला समिति, हरियाणा शारीरिक शिक्षक संघर्ष समिति, युवा कल्याण संगठन, अखिल भारतीय किसान सभा सहित अन्य सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि भी साथ रहे। खिलाडिय़ों का प्रदर्शन स्थानीय भीम स्टेडियम से शुरू होकर हांसी गेट, पुराना बस स्टैंड होते हुए लघु सचिवालय पहुंचा तथा जिला पंचायत विकास अधिकारी रविंद्र दलाल के माध्यम से प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम मांगपत्र सौंपा तथा नौकरियों में खेल कोटा बहाल करने की मांग की। इस दौरान ग़ुस्साए खिलाडिय़ों ने सरकार को स्पष्ट चेतावनी दी कि सरकार उनके साथ झूठ का खेल खेलना बंद करें, ताकि वे अपने खेल पर ध्यान देकर देश के लिए मैडल जीत सकें।
इस मौके पर द्रोणाचार्य अवॉर्डी कोच जगदीश सिंह एवं भिवानी बॉक्सिंग क्लब के प्रधान कमल सिंह ने कहा कि पिछले वर्ष खेल कोटा बहाली को लेकर जब वो सडक़ों पर उतरे थे तो सरकार ने उनकी मांग मानी थी तथा स्वयं मुख्यमंत्री मनोहरलाल, तत्कालीन खेल मंत्री व खेल निदेशक ने ट्वीट कर खेल कोटा बहाल करने की जानकारी दी थी, परन्तु आज तक वो कोटा बहाल नहीं हुआ। जिसके विरोध में खिलाड़ी व कोच सडक़ों पर उतरे। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हरियाणा के खिलाड़ी सबसे ज्यादा मैडल लाकर देश को गौरवांवित करते है, उसके बावजूद भी प्रदेश की भाजपा सरकार ने सिर्फ 3 विभागों में खिलाडिय़ों का नौकरी कोटा निर्धारित किया है। जिस पर भी सीटेट, जेबीटी, दिव्यांग खिलाडिय़ों के लिए ईएसपी कोटा जैसी अनाप-शनाप शर्ते थौंपी गई है, जिसमें खिलाडिय़ों का मनोबल टूटता है। उन्होंने बताया कि हालही में पुलिस विभाग में 6 हजार वैकेंसी निकाली गई है, जिसमें भी खेल कोटा निर्धारित नहीं किया गया, जो कि खिलाडिय़ों के भविष्य से खिलवाड़ है।
इस मौके पर अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी मनीष सोनीपत व अंतर्राष्ट्रीय बॉक्सर बिजेंद्र के भाई मनोज बेनिवाल, सुंदर पहलवान ने कटाक्ष करते हुए कहा कि जब भी कोई खिलाड़ी विदेशी जमीन से मैडल लाता है तो यही नेता उन्हें खाने पर बुलाते हैं और हमारे साथ फोटो खिंचवाते हैं, पर जब नौकरी की बात आती है तो झूठे वायदे किये जाते हैं। खिलाडिय़ों ने चेतावनी दी कि सरकार उनके साथ ये खेल ना खेले। वो खेलने लगे तो सरकार से अच्छा खेलेंगे। इस दौरान सभी खिलाडिय़ों व कोचों ने एक स्वर में जब तक सभी विभागों में खेल कोटा बहाल नहीं होता, उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।
अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal