भाजपा व जेजेपी के गठबंधन पर किसी भी प्रकार का कोई संशय नहीं है: उप मुख्यमंत्री

147
SHARE

भिवानी।  

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि भाजपा व जेजेपी के गठबंधन पर किसी भी प्रकार का कोई संशय नहीं है। गठबंधन सरकार किसानों व आमजनों के हित के लिए काम कर रही है। हरियाणा के किसानों को सूरजमुखी का भाव पड़ोसी राज्य पंजाब और राजस्थान से अधिक मिल रहा है। विरोध प्रदर्शन से यह साबित हो रहा है कि विपक्ष किसानों के हित में नहीं है और प्रदेश की किसान हित नीतियों को कमजोर करना चाहता है। उन्होंने कहा कि भिवानी फाइबर टेक्सटाइल का हब बना है, जिससे देश की 70 प्रतिशत डिमांड भिवानी से पूरी होती है।
उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला वीरवार को स्थानीय डीसी कॉलोनी में अंतर्राष्टï्रीय खिलाड़ी व भारतीय कबड्डी टीम के कोच रामहेर के निवास स्थान पर पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार आमजन की भलाई के लिए आधारभूत ढ़ाचे को मजबूत कर रही है। हाल ही में केंद्रीय सडक़ एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने हरियाणा को 3700 करोड़ रूपए की सौगात दी है। इसके साथ ही गडकरी ने हांसी से जींद और जींद से कैथल सडक़ मार्ग को फोर लेन करने की सहमती दी है। इसी प्रकार से कुरूक्षेत्र के शाहबाद से रादौर तक वाया बबैन और यमुनानगर तक रोड़ को सीसी करने की मंजूरी दी है, इनके बनने से प्रदेश में सडक़ों का आधारभूत ढ़ाचा और अधिक मजबूत होगा। सरकार का प्रयास है कि प्रदेश में इस प्रकार से नए-नए उद्योग स्थापित हो।
उन्होंने कहा है कि हम और राज्यों से कहीं अधिक बेहतर ढग़ से काम कर रहे हैं, चाहे वो राजस्व प्राप्ति की बात हो या प्रदेश में सूरजमुखी के भाव की बात हो। उन्होंने कहा कि भले ही प्रदेश में सूरजमुखी के भाव को लेकर आंदोलन हुआ हो, लेकिन हरियाणा में किसानों को 6050 रुपए प्रति क्विंटल रेट दिया गया है, जबकि पंजाब में पांच हजार रुपए भी भाव नहीं पहुंचा है। इसी प्रकार राजस्थान में महज 3800 से 4100 के बीच सूरजमुखी का भाव है।

इससे यह साबित हो रहा है कि विपक्षी पार्टियां हरियाणा सरकार द्वारा किसानों को सशक्त बनाने की नीतियों को कमजोर करने का प्रयास कर रही हैं।
चौटाला ने कहा कि सरकार ने नीतियां बनाकर प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा दिया है। पिछले साढ़े तीन साल की बात करें तो भिवानी फाईबर संबंधित टेक्सटाइल का हब बना है। देश की 70 प्रतिशत फाइबर टेक्सटाइल की डिमांड भिवानी से पूरी हुई हंै। इन उद्योग संचालकों को प्रदेश की उद्योग नीति का पूरा फायदा मिला है। उन्होंने कहा कि पदमा के तहत भी भिवानी के दो ब्लॉक के लिए प्रमिशन दी है, जिसमें अगर कोई 25 एकड़ जमीन में पांच या छह उद्योग समूह के रूप में स्थापित करना चाहता है तो उसमें बिजली, पानी-सीवरेज आदि इंफ्रास्ट्रक्चर के खर्च का 85 प्रतिशत सरकार वहन करेगी।
इससे पहले उप मुख्यमंत्री चौटाला ने चौ. देवीलाल सदन में जन समस्याएं सुनी।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal