पीएम मोदी जी के प्रयासों से हरियाणा का बाजरा विदेशों में होगा निर्यात-जेपी दलाल

99
SHARE

लोहारू/बहल/सिवानी मंडी।

प्रदेश के कृषि एवं पशुपालन मंत्री जेपी दलाल ने कहा है कि गांव गिगनाऊ का अद्र्र्शुष्कीय बागवानी उत्कृष्टïता केंद्र और गांव गोकुलपुरा का मौटे अनाज का अनुसंधान केंद्र किसानों की आय बढ़ाने में मील का पत्थर साबित होगा। गिगनाऊ के अद्र्घशुष्कीय बागवानी उत्कृष्टïता केंद्र में सब्जी की पौध तैयार हो चुकी हैं, जो किसानों को 50 प्रतिशत के अनुदान पर दी जाएगी। पौध ब्रिकी की सूचना सार्वजनिक की जा चुकी है। इस बागवानी उत्कृष्टïता केंद्र पर उत्तम किस्म के फल, फूल और सब्जियों की हर साल 50 लाख पौध तैयार होंगी। यहां से पौध खरीदने वाला किसान हरियाणा का वासी होना जरूरी है।
कृषि एवं पशु पालन मंत्री जेपी दलाल वीरवार को लोहारू हल्के के गांव बड़वा, गुरेरा, सिवानी, तलवानी, ईश्रवाल, मंढ़ोली कलां, बहल, बरालू, दमकौरा, बसीरवास, सिंघानी व अलाउदीनपुर भूंगला में जनसंपर्क अभियान के दौरान ग्रामीणों को संबोधित कर रहे थे। जनसंपर्क अभियान के दौरान ग्रामीणों ने कृषि मंत्री जेपी दलाल का जोरदार स्वागत किया।
इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों की समस्याओं को सुना और मौके पर मौजूद अधिकारियों को समस्याओं के समाधान को लेकर जरूरी निर्देश दिए। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि गांव में विकास कार्यों के बारे में ग्राम दर्शन पोर्टल पर अपलोड करें ताकि उनको योजनाबद्घ तरीके से पूरा करवाया जा सकें। उन्होंने कहा कि गांव में विकास कार्यों की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी, प्रदेश सरकार गांव के समग्र विकास के प्रति वचनबद्घ है। उन्होंने कहा कि 10, 11 व 12 मार्च को हिसार के चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में किसान मेले का आयोजन किया जा रहा है, जहां पर किसानों को खेती से संबंधित नई-नई जानकारी मिलेंगी। इसी प्रकार दादरी में 11, 12 व 13 मार्च को प्रदेश स्तरीय पशु मेले का आयोजन किया जा रहा है। इस मेले में प्रदेश के उत्तम नस्ल के पशु देखने को मिलेंगे। पशु मेले में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के हाथों 50 लाख रूपए से भी अधिक के ईनाम विजेता पशु पालकों को दिए जाएंगे। उन्होंने किसानों व पशु पालकों से इन मेलों में अधिक से अधिक शामिल होने की अपील की।
कृषि एवं पशुपालन मंत्री दलाल ने कहा कि सरकार द्वारा वर्ष 2023 को मौटे अनाज का पोषक वर्ष घोषित किया है। इसका सीधा लाभ दक्षिण हरियाणा के किसानों को मिलेगा। इस क्षेत्र में किसानों द्वारा पैदा किया जाने वाला बाजरा जहाजों के माध्यम से विदेशों में निर्यात होगा, जिससे निश्चित तौर पर किसान की आय बढ़ेगी।
सरकार किसान, गरीब व आमजन के हित के लिए अनेक योजनाएं लागू कर रही है। सरकार ने किसानों की आय बढाने के लिए अनेक योजनाएं लागू की हैं। वर्ष 2014 से अब तक कृषि, बागवानी, पशु पालन और मच्छली पालन के बजट में भारी बढौतरी की गई है, जिससे उत्पादन और उत्पादकता बढ़ी है। उन्होंने कहा कि पशुधन को सुरक्षित रखने के लिए प्रदेश में 112 की तर्ज भी 200 एंबूलेंस सेवा चलाई जाएंगी, जिस पर फोन करते ही तुरंत प्रभाव से एंबूलेंस मौके पर पहुंचेगी, जिसमें पशु चिकित्सक होंगे और घायल या बीमार पशु का उपचार करेंगे। एंबूलेंस के पहुंचने और उपचार का सारा रिकार्ड ऑन लाईन मुख्यालय पर दर्ज होगा। उन्होंने कहा कि किसानों की आय बढाने को लेकर ही सूक्ष्म सिंचाई योजना शुरु की गई है, जिस पर 85 प्रतिशत का अनुदान दिया जा रहा है। गन्नौर में 550 एकड़ में हजारों करोड़ की लागत से विश्व की सबसे बड़ी मंडी का निर्माण किया जा रहा है। इस मंडी में करीब 40 हजार करोड रुपए का कारोबार होगा। इससे सीधा फायदा किसानों को मिलेगा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2023 को मौटे अनाज का पोषक वर्ष घोषित किया गया है, जिससे सबसे अधिक फायदा हरियाणा के किसान को होगा। किसानों को आय बढाने के लिए नए अवसर मिलेंगे।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal