भिवानी: एसएचओ विकास कुमार ने छात्राओं को साइबर क्राइम से बचाव के तरीके बताए

164
SHARE

भिवानी।

साइबर अपराध की रोकथाम में युवाओं की भूमिका’ विषय पर चौ. बंसीलाल राजकीय महिला महाविद्यालय में गोष्ठी हुई जिसमें छात्राओं को जागरूक किया गया। मुख्य वक्ता साईबर थाना के एसएचओ विकास कुमार ने छात्राओं को साइबर क्राइम से बचाव के तरीके बताए।
उन्होंने छात्राओं को साइबर अपराध में ठगों की ओर से इस्तेमाल की जाने वाली विधि, सोशल साइटों का सावधानीपूर्वक प्रयोग करने और हेल्प लाइन नंबरों के बारे में विस्तार से अवगत कराया। छात्राओं को फेसबुक हैकिंग, क्यूआर कोड के माध्यम से होने वाले फ्रॉड, वाट्सएप हैकिंग से बचाव, फर्जी वेबसाइट से होने वाले फ्रॉड, हेल्पलाइन नंबर 1930 से संबंधित सावधानियों व युवाओं की भूमिका के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि जागरूकता से ही साइबर अपराध से बचाव किया जा सकता है।  महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ दलीप सिंह ने कहा कि पुलिस प्रशासन की साइबर शाखा द्वारा यह सराहनीय जागरूकता कार्यक्रम है।

छात्राएं इसके माध्यम से मिली जानकारी को परिवार और आसपास के लोगों तक पहुंचाकर साइबर अपराध की रोकथाम में अपनी भूमिका निभाने का काम करें। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रमों को अभियान के रूप में आयोजित करना होगा तभी लोगों तक सभी प्रकार की जानकारी पहुंच पाएगी। समाज का हर वर्ग आज कहीं न कहीं साइबर क्राइम से पीड़ित है। इस तरह के जागरूकता कार्यक्रम लगातार होने चाहिएं। वीरेंद्र संडवा ने कहा कि जागरूकता ही साइबर अपराध से बचने का सर्वश्रेष्ठ माध्यम है। जिस तरह से सोशल साइट्स के माध्यम से साइबर क्राइम किया जा रहा है, इसके लिए बड़े सोशल प्लेटफार्म को सावधानी और सतर्कता के साथ प्रयोग करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि बिना सोचे समझे किसी प्रकार की डीलिग मोबाइल इंटरनेट या ईमेल पर ना करें। उन्होंने कहा कि साइबर अपराधी अक्सर बैंक अधिकारी, कस्टमर केयर कर्मचारी बन या अन्य लोभ देने की बात कहकर फोन करते हैं और लोगों को झांसे में लेकर उनसे गोपनीय जानकारी हासिल कर अपराध को अंजाम देते है। इस अवसर पर महिला थाना भिवानी से एएसआई रमन एवं डिम्पल सहित स्टाफ सदस्य एवं छात्राएं उपस्थित रही।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal