कुरियर ब्वॉय बनकर धोखाधड़ी कर सकता है साईबर ठग, रहें सावधान – पुलिस अधीक्षक अजीत सिंह

180
SHARE
भिवानी।
पुलिस अधीक्षक भिवानी अजीत सिंह भा०पु०से०  ने बताया कि आज की डिजिटल दुनिया में जैसे जैसे तकनीक बढ़ती जा रही है, इसके साथ ही साइबर अपराधी भी अलग–अलग तरीके अपनाकर लोगों के साथ धोखाधड़ी की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। ऐसे अपराधियों से बचने के लिए खुद को जागरूक व सावधान रखने की आवश्यकता है। एसपी महोदय के निर्देश पर जिला पुलिस द्वारा विशेष जागरुक अभियान चलाकर लोगों को साइबर अपराधों के प्रति जागरुक किया जा रहा है। इस अभियान के तहत पुलिस द्वारा शहरी/ग्रामीण क्षेत्र तथा स्कूल व कॉलेज इत्यादि में जागरुक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं और लोगों को नई तकनीकी के बारे में जागरुक किया जा रहा है। साइबर क्रिमनल नए–नए तरीके अपनाकर लोगों को बेवकूफ बनाकर धोखाधड़ी करते हैं।
साईबर जालसाजों के वारदात का तरीका
वर्तमान समय में साईबर जालसाज कुरियर ब्वाय बनकर आमजन के साथ फ्रॉड कर रहे हैं, इससे सतर्क रहने की जरूरत है। हालांकि जिले में अभी इस प्रकार का कोई मामला सामने नहीं आया है। जालसाज आपके ऑर्डर के बिना ही डिलीवरी ऑर्डर लेकर आपके घर पहुंच जाता है और आप उससे इस आर्डर बारे मना करेंगे तो साइबर ठग आपसे ऑर्डर कैंसिल करने की बात करेगा फर्जी कॉल सेंटर में आपकी बात कराएगा। फर्जी कॉल सेंटर आपसे ओटीपी मांगेगा। पीछा छुड़ाने के लिए व्यक्ति जल्‍दबाजी में ओटीपी बता देता है और यहीं पर चूक हो जाती है। ओटीपी देते ही ठग रफूचक्कर हो जाएगा। उसके जाते ही आपका अकाउंट खाली हो जाएगा। इसलिए जागरूक रहकर साइबर ठगी का शिकार होने से बचें।
1930 पर शिकायत करें
किसी भी प्रकार की वित्तीय या ऑनलाइन धोखाधड़ी होने पर 1930 पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करवाएं। इसके अलावा साईबर क्राईम थाना या आपके संबंधित थाने में स्थापित साईबर हेल्प डेस्क पर शिकायत दें।
इन बातों का रखें ध्यान
अगर कोई आपके पास सामान लेकर आए और कहे कि आपने बुक कराया है तो उससे उसका सबूत मांगें, साथ ही अपनी तरफ से भी सबूत दिखा दें कि आपने कोई ऑर्डर नहीं किया है। संबंधित शॉपिंग वेबसाइट या ऐप के पेज पर जाकर दिखा सकते हैं कि आपने कोई ऑर्डर नहीं किया।
अगर आपके घर में किसी ने गलती से ऑर्डर कर भी दिया है और आप उस सामान को नहीं लेना चाहते हैं तो आपको उसे कैंसिल करने के लिए कुछ नहीं करना। आप अगर उस पैकेट को रिसिव नहीं करेंगे तो वह खुद ही वापस चला जाएगा और कैंसिल हो जाएगा।
कोई भी ऑर्डर कैंसिल कराने के लिए आए ओटीपी को न बताएं।
बात चाहे ऑर्डर कैंसल की हो या दूसरी हो, कॉल पर रहते हुए कोई भी ओटीपी से जुड़ा मैसेज आए तो उसे ध्यान से पढ़ें। दरअसल, ठग अक्सर कॉल पर रहते हुए ध्यान भटकाते हैं और आप फौरन ओटीपी बता देते हैं।
अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal