कोविड के मरीजों का उपचार करने वाले प्रत्येक अस्पताल की होगी जांच:DC

145
SHARE
सप्ताह में एक अस्पताल की सार्वजनिक की जाएगी मरीजों की सूची, खुले दरबार में दी जा सकेगी शिकायत
भिवानी हलचल 10 जुलाई।
उपायुक्त जयबीर सिंह आर्य ने कहा कि जिला में कोविड के मरीजों का उपचार करने वाले प्रत्येक निजी अस्पताल की जांच की जाएगी और उपचार के नाम पर वूसले गए अधिक पैसे मरीजों को वापिस दिलवाए जाएंगे। हर सप्ताह एक अस्पताल के मरीजों की सूची प्रकाशित की जाएगी और सप्ताह में लगने वाले एक खुले दरबार में उस अस्पताल से संबंधित मरीज अपनी शिकायत दे सकेंगे। जांच में सही साबित होने पर मरीज के पैसे वापस करवाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि महामारी की आड़ में अनैतिक ढंग से फायदा उठाने वाले अस्तपालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
उपायुक्त श्री आर्य शनिवार को अपने कैंप कार्यालय में जिला प्रशासन द्वारा गठित जांच कमेटी के सदस्यों को जरूरी निर्देश दे रहे थे। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग से यह रिपोर्ट मांगी गई है कि भिवानी में कोविड का उपचार करने वाले निजी अस्पतालों ने कोविड के उपचार की क्या-क्या सुविधा उनके पास होना दिखाया गया था और प्रतिदिन कितने मरीज दाखिल होने की रिपोर्ट अस्पतालों द्वारा स्वास्थ्य विभाग के पास भेजी। अस्पतालों ने उनके पास किस-किस बीमारी के चिकित्सक होना दर्शाया गया है। ऐसे कितने अस्पताल ऐसे हैं, जिन्होंने अपने अस्पतालों ने आईसीयू और वेंटीलेटर की सुविधा दिखाई है और क्या वास्तव में वे सुविधा उनके अस्पताल में हैं। उन्होंने कहा कि यदि तीन दिन में सामान्य अस्पताल द्वारा यह रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की जाती है तो संबंधित अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
जांच कमेटी ने जुटा लिया हर अस्पताल का रिकार्ड
जांच कमेटी द्वारा कोविड का उपचार करने वाले हर अस्पताल रिकार्ड जुटा लिया है। यह भी छानबीन की गई है कि अस्पताल ने कितने चिकित्सकों का रोस्टर बनाया है और वास्तव में मरीजों की उपचार हिस्ट्री पर किस चिकित्सक के हस्ताक्षर हैं। रोस्टर के हिसाब से मरीजों के कार्ड पर हस्ताक्षर हैं या नहीं। उपायुक्त श्री आर्य ने बताया कि जांच कमेटी द्वारा अस्पतालों द्वारा स्टाफ व कोविड मरीजों के बारे में रिकार्ड मांगा गया था, संबंधित रिकार्र्ड प्रस्तुत नहीं करने वाले अस्पतालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। कोविड मरीज अपनी शिकायत कमेटी के समक्ष अब भी दे सकते हैं। शिकायत भिवानी में हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण कार्यालय में ईओ हुडा के पास किसी भी समय की जा सकती है।
हर सप्ताह प्रकाशित होगी एक अस्पताल के मरीजों की सूची
उपायुक्त श्री आर्य ने बताया कि हर सप्ताह एक अस्पताल के कोविड मरीजों की सूची मीडिया के माध्यम से सार्वजनिक की जाएगी। सप्ताह में एक बार शुक्रवार को पंचायत भवन भिवानी में खुला दरबार लगेगा, जिसमें मरीजों की शिकायत सुनी जाएंगी और उनसे उपचार के नाम पर वसूले गए अधिक पैसे वापिस करवाए जाएंगे। खुले दरबार में जांच कमेटी के सदस्यों के अलावा संबंधित अस्पताल के संचालक भी मौजूद रहेंगे।
इन अस्पतालोंं ने किया कोविड के मरीजों का उपचार
स्थानीय स्वास्थ्य विभाग द्वारा शहर में 11 अस्पतालों को कोविड का उपचार करने की अनुमति प्रदान की थी, जिनमें शहर के कदम अस्पताल, चुघ नर्सिंग होम, लाईफ लाईन, अंचल मल्टीस्पेशलिटी, स्पेश अस्पताल, एसएमएसजी, श्री गणेशा अस्पताल, योगी आदिनाथ लोहानी, जांगड़ा अस्पताल व आरपीएस खरक, शामिल थे। गणपतराय अस्पताल में एक भी कोरोना का मरीज दाखिल नहीं हुआ था। जांच कमेटी द्वारा प्रत्येक अस्पताल की छानबीन की जा रही है। प्रत्येक अस्पताल से प्रत्येक मरीज से वसूले गए रुपयों का हिसाब लिया जाएगा। यह जांच निरंतर जारी रहेगी।
इस दौरान जांच कमेटी सदस्य ईओ हुडा सुरेश रवेश कुमार, चौ. बंसीलाल राजकीय सामान्य अस्पताल से प्रधान चिकित्सा अधिकारी डॉ. रघुबीर शांडिल्य, आईएमए से डॉ. ईश्वर गुप्ता, अकाऊंट ऑफिसर अशोक कुमार व ड्रग निरीक्षक हेमंत ग्रोवर मौजूद रहे।