हर व्यक्ति के सिर पर छत मुहैया करवानी है, होमलैस व लैंडलैस की मुझे चिंता: मुख्यमंत्री मनोहर लाल

100
SHARE
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि राज्य में कोई भी व्यक्ति बिना घर के नहीं होना चाहिए, गरीब से गरीब व्यक्ति के सिर पर छत मुहैया करवाना हमारा प्रमुख उद्देश्य है। मुख्यमंत्री प्रदेश में लागू केंद्रीय योजनाओं की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी व ग्रामीण, प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना शहरी व ग्रामीण, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना,अटल पेंशन योजना, किसान क्रेडिट कार्ड योजना, प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, डायरेक्ट बैनीफिट ट्रांसफर योजना, प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति,वन-डिस्ट्रिक्ट वन-प्रोडक्ट योजना के अलावा अमृत सरोवर योजना की भी समीक्षा की और आवश्यकता अनुसार कदम उठाने के निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रधानमंत्री आवास योजना की विस्तृत जानकारी लेने के बाद अधिकारियों को कहा कि जिनके पास न घर है, न जमीन है, ऐसे लोगों को छत मुहैया करवाने में वरियता दी जाए। उन्होंने कहा कि मुझे इन गरीब लोगों की चिंता है, इन सभी को घर देने के लिए कोई प्लान बनाओ और पैसे की वजह से घर बनाने का काम नहीं रूकना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को इस कार्य में गति बढ़ाने के निर्देश देते हुए कहा कि वे मासिक लक्ष्य निर्धारित करें और उक्त योजना के तहत सौ फीसदी सर्वे का कार्य भी जल्द से जल्द पूरा किया जाए।
मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि एक गांव से दूसरे गांव को जोड़ने वाली सभी सड़कों को पूरा किया जाए और केंद्र सरकार द्वारा दिए गए टारगेट को समय से पूरा करें। उन्होंने प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना के तहत एक मैकेनिज्म बनाने के निर्देश दिए ताकि हर लाभपात्र को इसका फायदा मिल सके।
इस दौरान मुख्यमंत्री को बताया गया कि हरियाणा की डीबीटी योजना पूरे देश में अव्वल है। इसमें 150 योजनाओं को डीबीटी व आधार से लिंक किया गया है। इन योजनाओं में 94 योजनाएं राज्य की तथा 56 योजनाएं केंद्र सरकार की शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के तहत किए जा रहे कार्यों में भी तेजी लाने के निर्देश दिए।
अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal