हरियाणा में हिंदू विवाह अधिनियम में संशोधन की तैयारी

338
SHARE

हरियाणा में हिंदू विवाह अधिनियम में संशोधन की तैयारी शुरू कर दी गई है। समान गोत्र और एक गांव में शादी के साथ लिव-इन रिलेशन के रजिस्ट्रेशन पर हरियाणा की खापें आपत्ति जता चुकी हैं। खापों की मांगों को देखते हुए सरकार ने भी हिंदू विवाह अधिनियम (HMA) में संशोधन के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है।

हरियाणा सरकार की ओर से गृह विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी ने नागरिक संसाधन सूचना विभाग (CRID) के चीफ सेक्रेटरी को आगे की कार्रवाई के लिए फाइल को भेजा गया है।

हरियाणा में खाप पंचायतों (जाति परिषदों) ने BJP-JJP सरकार से राज्य में समान गोत्र विवाह पर रोक लगाने के लिए हिंदू विवाह अधिनियम में संशोधन करने के लिए कहा है। भूमि बचाओ संघर्ष समिति (जिसमें कई खाप और नागरिक शामिल हैं) ने 1 जुलाई को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को एक ज्ञापन में कहा कि राज्य को हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 में संशोधन करना चाहिए और अंतर-गोत्र और अंतर-ग्राम विवाह को जनहित में अमान्य की घोषणा करनी चाहिए।

भारत भूमि बचाओ संघर्ष समिति के अध्यक्ष रमेश दलाल और सर्वजातीय कंडेला खाप प्रधान धर्मपाल कंडेला द्वारा सौंपी गई मांगों पर कार्रवाई का स्वागत किया है। कंडेला ने कहा है कि समान गोत्र और समान गांव में विवाह समाज में सामाजिक मानदंडों के विपरीत है। इसलिए उन्होंने खाप पंचायतों की मांगों के अनुसार संशोधन लाने के लिए राज्य सरकार के सामने यह मांग उठाई है।

अपने आस-पास की खबरे देखने के लिए हमारा youtube चैनल Subscribe करेSubscribe करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे https://www.youtube.com/bhiwanihulchal